Featured Post

Yes its sinking in.. Rank 40, CSE 2015.The UPSC circle- the close and the beginning.

Bagh-e-Bahisht Se Mujhe Hukam-e-Safar Diya Tha Kyun Kaar-e-Jahan Daraz Hai, Ab Mera Intezar Kar                      - Mohammad...

Wednesday, October 14, 2015

On that planet in that galaxy...

वहाँ दिन खिलेगा; 
वहाँ रात होगी,
वहाँ हर डगर पर 
मुलाकात होगी।

वहाँ चाँद अम्बर 
के नीचे समंदर 
में आधा-सा छुपकर, 
बातें करेगा। 
वो आधी -सी बातें... 

वहाँ लफ्ज़ बिखरेंगे 
कागज़ से नभ पर, 
और पंछियों - से,
घरोंदों को अपने,  
लौटेंगे रातों को।   
वो आधी- सी रातें... 

वहाँ मैं नहीं मैं
वहाँ तुम नहीं तुम,
वहाँ कुछ न ज़्यादा 
वहाँ कुछ नहीं कम। 

कि जब वक़्त धागों- सा
जुड़ कर रुकेगा 
वहाँ रेत पर...
तेरी धड़कनों में 
संगीत मेरा,
पुकारेगा तुझको
तेरा नाम लेकर...

और चुप चाप छुपकर 
तेरी धड़कनों में, 
संगीत मेरा...
वो आधा- सा वादा 
कर देगा पूरा। 

picture source https://www.pinterest.com/pin/288019338642945452/

2 comments:

  1. what a romantic piece and enchanting!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Yeah. Wrote this romantic a piece after a lot o time. Feels good... Thanks keep talking 😊

      Delete