Featured Post

Yes its sinking in.. Rank 40, CSE 2015.The UPSC circle- the close and the beginning.

Bagh-e-Bahisht Se Mujhe Hukam-e-Safar Diya Tha Kyun Kaar-e-Jahan Daraz Hai, Ab Mera Intezar Kar                      - Mohammad...

Tuesday, June 6, 2017

The star shrinks in its own gravity.

मै ये कहाँ आ गया
किसको कहूँ , न कहूँ ?
मैं हूँ अभी भी वहाँ
बैठा हुआ, हूबहू
मै हँसता हूँ ,
रो पड़ता हूँ
हूँ भूला ,
याद भी करता हूँ
- मै स्याही हूँ -
अपने रंगों से 
रोज़ मैं रोज़ झगड़ता हूँ
मै  बादल -सा घिर जाता हूँ
मै पागल - सा फिर आता हूँ
इन शहरों में
इन कसबों में
हर गाँव की
पगडंडी में
- जंगल जंगल -
किसको ढूंढूं ?
मैं रातों में , 
बीच अँधेरे और सवेरे के
आँखें खोलूँ ,आँखें मूंदूँ,,,
- ढूंढूं तेरी -
धड़कन की धुन
के बीच तेरी
- कंपन कंपन -
और फिर छुपकर
पलकों के तले
रिसती - रिसती
उलझन - उलझन।
पर बीच कहीं उसके मैंने
तेरी आँखों में
जो परियाँ  नाचती देखी थी,
उन परियों के
घरौंदों में
जलता है कहीं
एक काँच का पल
जग चूड़ी कंगन पहनेगा 
जलते उस काँच के रंगों का 
मैं कानों के इन बूंदों में 
पहनूँ रोज़ तुझे क्यों लम्हों सा ...
क्यों मै सोलह श्रृंगार करूँ ?
संगीत तेरा क्यों रोज़ सुनूँ ?
तोड़ूँ सब या तेरे ख़्वाब बुनूँ
हर रोज़ फिरूं
पागल पागल
बेचैन -बेचैन
बिस्मिल - बिस्मिल
बेकल - बेकल
किससे पूछूँ ?
तू मेरा कौन है?
मै तेरा कौन हूँ?
कौन अरमान है?
कौन अनजान है ?
दे बता अब ख़ुदा
अब तो ख़ुदा , दे बता ...

6 comments:

  1. profound & wonderful lines!
    permission to add few from my side:

    kyu dhoondhu tujhko
    sapne sa?
    kyu paa lu tujhme
    kuch apna sa?
    kyu teri taraf
    har bar muru?
    kyu sajda tera
    har bar karu?
    hai rishta
    ye kaisa?
    Kya hai bhi
    koi rishta?
    kya lafzo me
    karu baya?
    ya rehne du
    belafz pakiza?
    de bta ab khuda
    ab khuda de bta...

    ReplyDelete
  2. तुम्हारे खूबसूरत शब्दों की तारीफ में क्या लिखूं,
    कुछ खूबसूरत शब्दों की अभी तलाश है मुझे.

    ReplyDelete
  3. Tu hai syaahi sau sau rango ki...har kaagaz ko apne rang me rang deti hai.

    Tu hai baarish ek khushiyo waali...jo pyaase mun pe barasti hai.

    Ye log ye khushiyaan tere hain...jo jee le inhe tu har lamha.

    Tere kaano ke boondo sa naacheez sa mai...tujhko fir meri kyu parwaah.

    Shringaar kare jab tu kangan bindiya ka...tab ho jae feeki ye duniya.

    Ye log jo tere kaayal hain...in mureedo ki tu ek sarbarah.

    Kyu jeena chahe sang kisi k...jab tere kadmo me hai ye duniya.

    "Ek armaan jo hai wo pura hoga...anjaan hai jo...wo... koi muzahir hoga"

    -VS

    ps- for the one I used to admire so much.
    Sarbarah- Administrator
    Muzahir- Protector






    ReplyDelete